Saturday, December 7, 2019

बॉलीवुड की जानी मानी अभीनेत्री शिल्पा शैट्टी कुछ सालो से योग के कारण भारत में ही नहीं बल्कि विदेशो में भी लोकप्रिय हो गई है शिल्पा शैट्टी एक बच्चे की माँ होने के बावजूद भी एक दम स्लिम और फ़ीट छरहरे बदन की है और आजकल हर औरत लड़की उनके जैसे चाह रखती है शिल्पा शैट्टी का कहना है की वह अपने शरीर को फिट रखने के लिए हर सम्भव कोशिश करती है और हफ्ते में पांच दिन योगा जरूर करती है बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शैट्टी काफी जागरूक है वह योग को इगो डर और दर्द को को दूर करने का साधन मानती है आजकल जायदा तर महिलाए और लड़किया शिल्पा शैट्टी के योगासन कर अपने सरीर को स्लिम बनना रही है फ़िल्मी दुनिया में दसको तक सफलता की बुलंदियों पर रहने वाली शिल्पा योग को ईगो डर और दर्द को दूर करने का साधन मानती है उन्होंने लोगो को बेहतर फिटनेस का टिप्स देने के लिए खुद की योगा सीडी को भी जारी किया था शिल्पा शैट्टी ने पेट की चर्बी को कम कर उसे सही सेप में लेन के लिए कई तरह के आसनो के अभ्यास के बारे में बताया है उनमे से कुछ आसनो के बारे में आज हम आपको बाताने वाले है

धनुराशन योगा

शरीर को धनुष के आकर में रखकर किये जाने वाले इस अभ्यास से वजन कम करने में तो मदद मिलती है सह ही यह डायबटीज पीठ का दर्द ,अस्थमा ,पाइल्स और कब्ज के लिए भी धनुराशन भी लाभ दायक है

विधि

पेट के बल जमींन पर सीधे लेट जाए
इसके बाद अपने घुटनो के ऊपर की और झुकाये या हल्का सा मोडे और अपने टखनो को हाथो से पकडे
पैरो को घुटने से मोडे और पंजो को हाथो से पकड़ने का प्रयास करे
धीरे से स्वास ले और अपने सिर एवं आसपास के छेत्र को ऊपर उठाये और पैरो को जितना सम्भव हो उतना उठाये
लेकिन ध्यान रहे की अपने टखनो को हाथों से बराबर पकडे रहे
कुछ देर तक इसे मुद्रा में बने रहे और स्वाश हुए वापिस उसी मुद्रा में वापस आ जाए
इस योग मुद्रा को करते समय लगातार स्वास लेते और छोड़ते रहे और कम से कम लगातार इस आसान को ३ से ४ बाr करे

फायदे

इसे करने से पीठ और पेट की मांसपेसियों को मजबूत रखता है
यह आसान गर्दन ,छाती और कंधो को चौड़ा करने और खोलने में मदद करता है
पैरो और भुजाओ की मंश्पेसियो को टोन करता है और पीठ को लचीला बनाता है

भुजगांसन करने का तरीका

पेट के बल जमींन पर लेट जाए और अपने पैरो की उंगलियों को फर्श पर सीधे रखे एवं माथे को फर्श पर आराम के मुद्रा में टिकाये
दोनों पैरो को करीब लाके सटाये आपका दोनों पैर और एड़ी एक दुसरो को छुए
अब अपने दोनों हाथो की हथेली को अपने कंधे के निचे लाये और अपनी दोनों कोहनी को फर्श पर सम्मानान्तर रखे और धीरे धीरे अपनी गर्दन की धड़ के करीब लाये
लम्बी सास खींचते हुए फर्श से छूती हुई नाभि सहित अपने सीर छाती और पेट को आराम से और आहिस्ता -आहिस्ता ऊपर उठाये
अब अपने गर्दन की धड़ को आहिस्ता से पीठ की तरह हल्का सा पीछे मोडे और अपने दोनों हाथो से सहारा देते हुए सरीर को फर्श इसे शरीर को ऊपर उठाये
पीठ के वर्काकर आकृति में होने तक लगातार सांस लेते रह

भुजगांसन करने के फायदे

भुजगांसन करने वाला व्यक्ति का पाचन बिलकुल ठीक रहता है और उसे कब्ज एवं एसिडिटी की दिकत भी नहीं होती है इसके आलावा व्यक्ति को मल त्यागने में भी दिकत नहीं होती है

भुजगांसन करने की सावधनिया

अगर किसी को अल्सर हर्निया एवं क्षय रोग होतो किसी भी परिस्थिति में भुजगांसन को नहीं करना चाहिए
यदि आपको हायपोथयरॉइड की समस्या हो तो डॉ के परामर्श के बाद ही इस आसान को करे अन्यथा नहीं करे \
अगर आपके पेट में कोई चोट लगी हो या या फिर आप अस्थमा के मरीज हो तो आपको भुजगांसन वाली एक्साइज नहीं करना है
और गर्भवतुी महिलाओ को इस आसान को नहीं करना चाहिये

Tags: ,
Avatar

0 Comments

Leave a Comment

FOLLOW US

GOOGLE PLUS

PINTEREST

FLICKR

INSTAGRAM